Saturday, March 26, 2011

कुछ बातें थी जो अनकही रह गयीं

                                     कुछ ख्वाब थे जो अधूरे रह गए ..
                                  कुछ बातें थी जो अनकही  रह गयीं ..
                                कुछ यादें थी जो झिलमिल -सी हो गयी ..
                                  जिंदगी फिर से नए मोड़ पर ले आयी..
                                  भूलना चाहती थी पर भूल नहीं पायी..
                     कुछ ज़िन्दगी के फसाने थे जो अफसाने बन कर रह गये..
                                     किस्से तो बहुत से थे तुम्हे सुनाने को ..
                                    दुआ तो की थी तुमसे मिलने की हमने ..
                          पर ज़िन्दगी ने एक झलक  भी तुम्हारी न दिखलायी                              
                         कुछ आँसूं थे जो आँखों से पानी बनकर बह गये               
                  कुछ जज्बात थे जो कागज़ के पन्नों पर कहानी बनकर रह गये ..
                      कुछ उम्मीदें थी जो सिर्फ ख्याल बन कर रह गये 
                                  कुछ ख्वाब थे जो अधूरे रह गए 
                                  कुछ बातें थी जो अनकही  रह गयीं ..
                             कुछ यादें थी जो झिलमिल -सी हो गयी..

7 comments: